• RSS
  • Facebook
  • Twitter
  • Linkedin
2 3 4 5 6
Slider jQuery Plugin by CTSSliderm v2.8
Image 24

HOW WE WORK

We recognize that to produce maximum milk quantity and quality..... more

Image 10

dealer

small and marginal farms and helps them grow as dairy producers by providing an ecosystem of support services.... more

Image 26

FOUNDATION

Parthvimeda Gau Pharma Pvt Ltd is a for-profit social enterprise that sources milk from ...more

Image 16

ABOUT US

Parthvimeda Gau Pharma Pvt Ltd is a for-profit social enterprise that sources milk from ...more

कंपनी के उद्देश्य

भारतीय सनातन धर्मशास्त्र, आयुर्वेदशास्त्र, समाजशास्त्र, ज्योतिषशास्त्र अर्थशास्त्र, में गोमाता की महत्ता, उपादेयता, आवश्यकता तथा पञ्चगव्यों की विशेषता का विस्तार विषद वर्णन आता है | सनातन भारत में अनादी काल से ऋषि तथा कृषि के सृजन, पोषण, वर्धन तथा विकास की एक मात्र आधार गोमाता रही है | व्यक्ति, परिवार, समाज तथा राष्ट्र आरोग्यावन, संस्कारवान, सुशिक्षित, समृधिवान एवं सुरक्षित बनाये रखने का प्रधान स्त्रोत गोमाता ही है | परन्तु वर्तमान समय में दुर्भाग्यवश भारतीय जनमानस ने देवी संस्कृति की उपेक्षा करके आसुरी संस्कृति को जीवन यात्रा का आधार बनाया तब से गोमहिमा तथा पञ्चगव्यों की दिव्यता का ज्ञान भारत से लुप्त होता जा रहा है | परिणाम स्वरूप ऋषि-कृषि दोनों ही विकृत हो गए अर्थात गोव्रत ( दूध, दही, घी, छाछ) के अभाव में हृदय संवेदना शून्य तथा बुद्धि संशय ग्रस्त होकर विपरीत गामी हो गयी और गोबर, गोमूत्र तथा गोवंश की क्षति के कारण भूमि रुग्ण व विषाक्त बन गयी | यही कारण है की आज व्यक्ति, परिवार, समाज तथा राष्ट्र दिग्भ्रमित हो रहा है | पृथ्वी सहित सम्पूर्ण प्रकृति का पर्यावरण विकृत होने से मनुष्य सहित समस्त जीव जगत में नाना प्रकार की बिमारियों के साम्राज्य का विस्तार द्रुत गति से हो रहा है | मनुष्यों के मन, मस्तिष्क पर आसुरी शक्तियों ने अपना अधिपत्य जमा लिया है | देवी शक्तियां यत्र-तत्र, सर्वत्र क्षीण होती जा रही है | अतः देवीशक्तियों को पुष्ट करके देवी संस्कृति का पुनरुत्थान तथा आसुरी शक्तियों को समाप्त कर आसुरी संस्कृति का शमन करने हेतु कल्प जीवी ऋषियों की पावन प्रेरणा तथा भारत के सर्व-शास्त्रीय ज्ञान के प्रकाश में पूज्या गोमाता तथा उसके अखिल गोवंश की महत्ता, उपादेयता व पञ्चगव्यों की दिव्यता को भारतीय जन-मानस में पुनः उजागर करने के लिए गत १८ वर्षों से राष्ट्रीय कामधेनु कल्याण परिवार, श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा से भारतीय गोक्रांति के रूप में राष्ट्रव्यापी रचनात्मक एवं सृजनात्मक गोसेवा महाभियान का सूत्रपात हुआ है |

More

प्रोडक्ट

Image 1 गाय का दूध

गाय का दूध स्वादिष्ठ, रुचिकर, स्निग्ध, बलकारक, अतिपथ्य...

Image 2 गौ मूत्र

गौमूत्र मनुष्य जाति तथा वनस्पति जगत को प्राप्त होने वाला अमूल्य अनुदान है।

Image 3 गोपाल चूर्ण

यह चूर्ण विरेचन द्वारा वात, पिल तथा कफ को शम करता है ।

More